हरिशचंद्र मंडी ठसाठस भरी, – बंपर आवक से परिसर छोटा पडऩे लगा

झालरापाटन । हरिशचंद्र कृषि उपजमंडी में कृषिजिंसो की बंपर आवक से अब इन्हे रखने की समस्या खड़ी हो गईहै।पूरा मंडी परिसर जिंसो के ढेर व बोरियों से अटा पड़ा है जिससे परिसर के अंदर आनेजाने में भी परेशानी आ रहीहै।
खाद्य एवं तिलहन व्यापारसंघ की औरसे शुक्रवारसे मंडी में पांच दिन कारोबार बंंद रखने की सूचना के बाद गुरूवार को मंडी में सभी प्रकार की जिंसो विशेषकर गेंहू की अच्छी आवक होने से किसानो को परिसर में स्थानाभाव के कारण अपना माल खाली करने में परेशानी आई। इस वर्ष फसल के अनुसार वर्षा होने, मौसम अनुकूल रहने व पैदावार के लिए अन्य सभी कारण सकारात्मक रहने से सभीजिंसो की अच्छी पैदावार होने से मंडी में जिंस की बंपर आवक हो रही है किसानो का कहना है कि पैदावार अच्छी होने के साथ ही जिंस के दाम उन्हे अच्छे मिल रहे है। गुरूवार को मंडी में करीब 6 हजार बोरी जिंस की आवक हुई।पिछले दिनो भी गेंहू, सरसो, सोयाबीन की लगातार अच्छी आवक हुई है लेकिन तेज गर्मी व शादी विवाह का दौर चलने से मजदूरो के नही मिलने के साथ ही परिवहन के लिए ट्रक व अन्य साधन नही मिल रहे है इस कारण मंडी परिसरसे माल का उठाव नही हो पा रहा है और अब यह हालत हो गई है कि नीलामी यार्ड पर पहले खरीदी हुई जिंस की बोरियां रखी होने से आने वाली जिंस को नीलाम करने के लिए जगह की समस्या आ रहीहै। खाद्य एवं तिलहन व्यापारसंघ सचिव विजय मूदंड़ा व पूर्व अध्यक्ष अशोक मेहता ने बताया कि मंडी में जिंस की बढ़ती आवक को देखते हुए परिसर छोटा पडऩे लगाहै। मंडी परिसर के ही एक भाग में फल मंडी होनेसे अब जगह की कमी महसूस की जाने लगीहै।

cityofbells

Daily News Jhalawar/Jalarapatan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *